Sandeepany Sadhanalaya, Saki Vihar Road, Powai, Mumbai 400072 Mumbai IN
Chinmaya Vani
Sandeepany Sadhanalaya, Saki Vihar Road, Powai, Mumbai Mumbai, IN
+912228034980 https://cdn1.storehippo.com/s/5d76112ff04e0a38c1aea158/ms.settings/5256837ccc4abf1d39000001/webp/5dfcbe7b071dac2b322db8ab-480x480.png" vani@chinmayamission.com
978-81-7597-430-2 5e0f20c5a380ee192d49e7aa Geeta Padho Aagey Badho (हिंदी) https://cdn1.storehippo.com/s/5d76112ff04e0a38c1aea158/ms.products/5e0f20c5a380ee192d49e7aa/images/5e195e1ed135455a40f79dcf/5e195de9d135455a40f7986f/webp/5e195de9d135455a40f7986f.jpg

प्रत्येक मानव जीवन में सुख और शांति चाहता है | आगे बढ़ना चाहता है औरो की अपेक्षा अधिक तथा शीघ्र आगे बढ़ना चाहता है | यह हम सबकी सहज स्वाभाविक मांग है.तथापि सभी को उसका उचित उपाय, आगे बढ़ाने का सही मन्तव्य ज्ञात नहीं होता है | परिणामस्वरुप धन-संचय की अन्धी दौड़ में वे सब ऐसे उलझ जाते है की उनका जीवन तनाव ग्रस्त हो जाता है | बुद्धि विक्षिप्त हो जाती है और मनोबल टूटने लगता है |

इन सबसे छूटने का, अपनी स्वाभाविक मांग को पूर्ण करने का,आन्तिरिक विकास का सुनिचित उपाय हमें श्रीमद्भगवत गीता से प्राप्त होता है | उसी का अति सरल व् व्यावहारिक रूप हमें स्वामी प्रशान्तनंदाजी द्वारा विरचित गीता पढ़ो आगे बढ़ो नामक इस पुस्तिका में उपलब्ध है |

G2013
in stockINR 135
Chinmaya Prakashan
1 1

Geeta Padho Aagey Badho (हिंदी)

SKU: G2013
₹135
Publisher: Chinmaya Prakashan
ISBN: 978-81-7597-430-2
Language: Hindi
Author: Swami Prashantananda
Binding: Paperback
Tags:
  • Geeta, Vedanta, Spirituality

Description of product

प्रत्येक मानव जीवन में सुख और शांति चाहता है | आगे बढ़ना चाहता है औरो की अपेक्षा अधिक तथा शीघ्र आगे बढ़ना चाहता है | यह हम सबकी सहज स्वाभाविक मांग है.तथापि सभी को उसका उचित उपाय, आगे बढ़ाने का सही मन्तव्य ज्ञात नहीं होता है | परिणामस्वरुप धन-संचय की अन्धी दौड़ में वे सब ऐसे उलझ जाते है की उनका जीवन तनाव ग्रस्त हो जाता है | बुद्धि विक्षिप्त हो जाती है और मनोबल टूटने लगता है |

इन सबसे छूटने का, अपनी स्वाभाविक मांग को पूर्ण करने का,आन्तिरिक विकास का सुनिचित उपाय हमें श्रीमद्भगवत गीता से प्राप्त होता है | उसी का अति सरल व् व्यावहारिक रूप हमें स्वामी प्रशान्तनंदाजी द्वारा विरचित गीता पढ़ो आगे बढ़ो नामक इस पुस्तिका में उपलब्ध है |

User reviews

  0/5