Sandeepany Sadhanalaya, Saki Vihar Road, Powai, Mumbai 400072 Mumbai IN
Chinmaya Vani
Sandeepany Sadhanalaya, Saki Vihar Road, Powai, Mumbai Mumbai, IN
+912228034980 //cdn1.storehippo.com/s/5d76112ff04e0a38c1aea158/ms.settings/5256837ccc4abf1d39000001/webp/5dfcbe7b071dac2b322db8ab-480x480.png" vani@chinmayamission.com
9788175977969 61d15f006b4c1ac59bce8e2d Geeta Tatparya Bodhini (चतुर्थ अध्याय) //cdn1.storehippo.com/s/5d76112ff04e0a38c1aea158/61d15d6676f406f448f0865e/webp/gtb-front-cover-png.png

परम पूज्य स्वामी सुबोधानन्दजी के गहन, गंभीर और चिन्तनशील प्रवचनों के संग्रह की चतुर्थ कड़ी|

श्रीमद् भगवद् गीता के चतुर्थ अध्याय का नाम है, ज्ञानकर्मसन्न्यासयोग:|

ज्ञानकर्म संन्यास का अर्थ है, ज्ञानेन कर्म सन्न्यासः| इस एक शब्द में चतुर्थ अध्याय के सारे विषय का निरूपण किया गया है| ज्ञान के द्वारा कर्म का संन्यास किस प्रकार से होता है, यह चतुर्थ अध्याय का मूल प्रतिपादन है|

G2017
in stock INR 200
Chinmaya Prakashan
1 1

Geeta Tatparya Bodhini (चतुर्थ अध्याय)

SKU: G2017
₹200
Product Enquiry
Publisher: Chinmaya Prakashan
ISBN: 9788175977969
Language: Hindi
Author: Swami Subodhananda
Binding: Paperback

Description of product

परम पूज्य स्वामी सुबोधानन्दजी के गहन, गंभीर और चिन्तनशील प्रवचनों के संग्रह की चतुर्थ कड़ी|

श्रीमद् भगवद् गीता के चतुर्थ अध्याय का नाम है, ज्ञानकर्मसन्न्यासयोग:|

ज्ञानकर्म संन्यास का अर्थ है, ज्ञानेन कर्म सन्न्यासः| इस एक शब्द में चतुर्थ अध्याय के सारे विषय का निरूपण किया गया है| ज्ञान के द्वारा कर्म का संन्यास किस प्रकार से होता है, यह चतुर्थ अध्याय का मूल प्रतिपादन है|

User reviews

  0/5