Sandeepany Sadhanalaya, Saki Vihar Road, Powai, Mumbai 400072 Mumbai IN
Chinmaya Vani
Sandeepany Sadhanalaya, Saki Vihar Road, Powai, Mumbai Mumbai, IN
+912228034980 https://cdn1.storehippo.com/s/5d76112ff04e0a38c1aea158/ms.settings/5256837ccc4abf1d39000001/webp/5dfcbe7b071dac2b322db8ab-480x480.png" vani@chinmayamission.com
978-81-7597-406-7 5e0f20cba380ee192d49ea3b Hamsa Geeta (हिंदी) https://cdn1.storehippo.com/s/5d76112ff04e0a38c1aea158/ms.products/5e0f20cba380ee192d49ea3b/images/5e1836d38c1b21717966dcd1/5e1836b66b8f3171c036b4b3/webp/5e1836b66b8f3171c036b4b3.png

मानव मस्तिष्क सांसारिक उपलब्धियों में इतना उलझा रहता है कि ठोकरें खाते रहने पर भी संसार से स्वयं को पृथक नहीं कर पाता | इस प्रकार व्यस्त मस्तिष्क को ज्ञात ही नहीं होता कि उसेस कैसें छुटे | ऐसे`समय पर ईश्वर या प्रज्ञावान व्यक्ति ही उसे प्रकाश दिखा सकता है |

ऐसी ही समस्या को लेकर सनतकुमार आदि सुष्टिकर्ता ब्रह्मा जी के पास पहुंचे | ब्रह्मा जी ने स्वीकार किया कि वे उनका मन सुष्टि निर्माण कार्य में  |निमग्न है,अति व्यस्त है, अतः उन्हें उपाय नहीं सूझ रहा है| तब परब्रह्म परमेश्वर स्वयं 'हंस'के रूप में प्रकट हुए और उन्होंने सत्य का ज्ञान कराया |

श्रीमदभागवत का यह प्रसंग 'हंस गीता' कहलाता है |

पूज्य स्वामी तेजोमयानन्दजी द्वारा प्रस्तुत सुबोध व्याख्या इस समस्या को समझने और उसका व्यावहारिक उपाय जानने में सहायता करती है, जिससे हम सत्य की खोज में आगे बढ़ जाते हैं|

H2008
in stockINR 60
Chinmaya Prakashan
1 1

Hamsa Geeta (हिंदी)

SKU: H2008
₹60
Publisher: Chinmaya Prakashan
ISBN: 978-81-7597-406-7
Language: Hindi
Author: Swami Tejomayananda
Binding: Paperback
Tags:
  • Geeta, Vedanta, Spirituality

Description of product

मानव मस्तिष्क सांसारिक उपलब्धियों में इतना उलझा रहता है कि ठोकरें खाते रहने पर भी संसार से स्वयं को पृथक नहीं कर पाता | इस प्रकार व्यस्त मस्तिष्क को ज्ञात ही नहीं होता कि उसेस कैसें छुटे | ऐसे`समय पर ईश्वर या प्रज्ञावान व्यक्ति ही उसे प्रकाश दिखा सकता है |

ऐसी ही समस्या को लेकर सनतकुमार आदि सुष्टिकर्ता ब्रह्मा जी के पास पहुंचे | ब्रह्मा जी ने स्वीकार किया कि वे उनका मन सुष्टि निर्माण कार्य में  |निमग्न है,अति व्यस्त है, अतः उन्हें उपाय नहीं सूझ रहा है| तब परब्रह्म परमेश्वर स्वयं 'हंस'के रूप में प्रकट हुए और उन्होंने सत्य का ज्ञान कराया |

श्रीमदभागवत का यह प्रसंग 'हंस गीता' कहलाता है |

पूज्य स्वामी तेजोमयानन्दजी द्वारा प्रस्तुत सुबोध व्याख्या इस समस्या को समझने और उसका व्यावहारिक उपाय जानने में सहायता करती है, जिससे हम सत्य की खोज में आगे बढ़ जाते हैं|

User reviews

  0/5