https://eshop.chinmayamission.com
Sandeepany Sadhanalaya, Saki Vihar Road, Powai, Mumbai 400072 Mumbai IN
Chinmaya Vani
Sandeepany Sadhanalaya, Saki Vihar Road, Powai, Mumbai Mumbai, IN
+912228034980 https://cdn1.storehippo.com/s/5d76112ff04e0a38c1aea158/ms.settings/5256837ccc4abf1d39000001/webp/5dfcbe7b071dac2b322db8ab-480x480.png" vani@chinmayamission.com
978-81-7597-406-7 5e0f20cba380ee192d49ea3b Hamsa Geeta https://cdn1.storehippo.com/s/5d76112ff04e0a38c1aea158/ms.products/5e0f20cba380ee192d49ea3b/images/5e1836d38c1b21717966dcd1/5e1836b66b8f3171c036b4b3/webp/5e1836b66b8f3171c036b4b3.png

मानव मस्तिष्क सांसारिक उपलब्धियों में इतना उलझा रहता है कि ठोकरें खाते रहने पर भी संसार से स्वयं को पृथक नहीं कर पाता. इस प्रकार व्यस्त मस्तिष्क को ज्ञात ही नहीं होता कि उसेस कैसें छुटे. ऐसे`समय पर ईश्वर या प्रज्ञावान व्यवित ही उस प्रकाश दिखा सकता है.

ऐसी ही समस्या को लेकर सनतकुमार आदि सुष्टिकर्ता  ब्रह्मा जी ने स्वीकार किया कि वे उनका मन सुष्टि 

 निर्माण कार्य में निमग्न है,अति व्यस्त है, अतः उन्हें उपाय नहीं सूझ रहा है.तब परब्रह्म परमेश्वर स्वयं 'हंस'के रूप में प्रकट हुए और उन्होंने सत्य का ज्ञान कराया.श्रीमदभागवत का यह प्रसंग 'हंस गीता' कहलाता है

H2008
in stockINR 60
Chinmaya Prakashan
1 1
Swami Tejomayananda Values to Enhance Life ms.blog_posts/5e6610573d53f82f56d15168/5e660ead8100b92fae71d8fd.png
Swami Tejomayananda How is Integration of Personality achieved? ms.blog_posts/5e6609e5c5ebdf7ebd95a5c5/5e660959dac1397f02b29fc5.jpg
Swami Tejomayananda Goals of Life - Decoded ms.blog_posts/5e63738b5f31325348ab41d5/5e66002ea260b735de2a45f4.jpg
Swami Tejomayananda Enjoying Challenges ms.blog_posts/5e2ff3c31cec645b1efdc00c/5e3516a278a1493a33962255.jpg
Swami Tejomayananda Worship ms.blog_posts/5e2fef61454d2364c185c68d/5e3516bfe5e6673a849d1332.jpg
Swami Tejomayananda Discovering Peace ms.blog_posts/5e2fd93364c6f7354baa2cc2/5e3516d878a1493a3396267b.jpg
Central Chinmaya Mission Trust At Every Breath, A Teaching. ms.blog_posts/5dbfe6573565bf2d5be1b177/5dbfe6913565bf2d5be1bacd.jpeg
Central Chinmaya Mission Trust What is Self-realization ms.blog_posts/5dbfe76c190d312d0c60c2c2/5dbfe7513565bf2d5be1da9e.jpeg
Swami Tejomayananda Prepare to Meditate ms.blog_posts/5dbbebb66484d431f69ece5f/5dbc018a2500bc0bb4b29b3b.jpg
Hamsa Geeta

Hamsa Geeta

SKU: H2008
₹60.0
Publisher: Chinmaya Prakashan
ISBN: 978-81-7597-406-7
Language: Hindi
Author: Swami Tejomayananda
Binding: Paperback
Tags:
  • Geeta, Vedanta, Spirituality

Description of product

मानव मस्तिष्क सांसारिक उपलब्धियों में इतना उलझा रहता है कि ठोकरें खाते रहने पर भी संसार से स्वयं को पृथक नहीं कर पाता. इस प्रकार व्यस्त मस्तिष्क को ज्ञात ही नहीं होता कि उसेस कैसें छुटे. ऐसे`समय पर ईश्वर या प्रज्ञावान व्यवित ही उस प्रकाश दिखा सकता है.

ऐसी ही समस्या को लेकर सनतकुमार आदि सुष्टिकर्ता  ब्रह्मा जी ने स्वीकार किया कि वे उनका मन सुष्टि 

 निर्माण कार्य में निमग्न है,अति व्यस्त है, अतः उन्हें उपाय नहीं सूझ रहा है.तब परब्रह्म परमेश्वर स्वयं 'हंस'के रूप में प्रकट हुए और उन्होंने सत्य का ज्ञान कराया.श्रीमदभागवत का यह प्रसंग 'हंस गीता' कहलाता है

User reviews

  0/5