Sandeepany Sadhanalaya, Saki Vihar Road, Powai, Mumbai 400072 Mumbai IN
Chinmaya Vani
Sandeepany Sadhanalaya, Saki Vihar Road, Powai, Mumbai Mumbai, IN
+912228034980 https://cdn1.storehippo.com/s/5d76112ff04e0a38c1aea158/ms.settings/5256837ccc4abf1d39000001/webp/5dfcbe7b071dac2b322db8ab-480x480.png" vani@chinmayamission.com
5e32ad5fd96fdb6583c159b0 Manas Ke Moti (भाग १ - ४) https://cdn1.storehippo.com/s/5d76112ff04e0a38c1aea158/ms.products/5e32ad5fd96fdb6583c159b0/images/5e32ad5fd96fdb6583c159b1/5e32acbcd96fdb6583c149c1/webp/5e32acbcd96fdb6583c149c1.jpg

मानस के मोती - स्वामी सुबोधानंदजी (प्रमुख आचार्य, सांदीपनी हिमालय) के तुलसी रामायण पर किए गए ज्ञान यज्ञाें का संकलन है |

इन ज्ञानयज्ञाें में मानस के आध्यात्मिक, दार्शनिक, साहित्यिक और सामाजिक पहलुओं पर विशेष विवेचना की गई है |

प्रथम भाग में चार प्रसगों का निरुपण है - भरत चरित्र (अयोद्या काण्ड), श्री राम गीता तथा नवधाभक्ति का उपदेश (अरण्य काण्ड) और सुग्रीव की शरणागति (किष्किंधाकांड)|

द्वितीय भाग में चार प्रसगों का निरूपण है - हनुमान चरित्र (सूंदर काण्ड), विश्वामित्र यज्ञरक्षा (बाल काण्ड), श्री राम वाल्मिकी संवाद (अयोद्या काण्ड), और कागमुशुंडि चरित्र (उत्तर काण्ड)|

तृतीय भाग में पांच प्रसगों का निरूपण है - लक्ष्मण चरित्र, लक्ष्मण गीता (अयोद्या काण्ड), विभीषण गीता (लंका काण्ड), सती पार्वती प्रसंग (बाल काण्ड) और उत्तर काण्ड|

चतृर्थ भाग में प्रभु श्रीराम का सुमधुर लीलामृत है जिसे पाठकों के लिए एक अनूठे रूप में प्रस्तुत किया गया है - बाल राम (बाल काण्ड), युवा राम (अयोद्या काण्ड), वनवासी राम (अरण्य काण्ड), शरणागत वत्सल राम (सूंदर काण्ड), रणवीर  राम (लंका काण्ड), और राजा राम (उत्तर काण्ड)|

PACK5
in stockINR 1435
Chinmaya Prakashan
1 1

Manas Ke Moti (भाग १ - ४)

SKU: PACK5
₹1,435
Publisher: Chinmaya Prakashan
Language: Hindi
Author: Swami Subodhananda
Binding: Paperback
Tags:
  • Binding: Paperback

Description of product

मानस के मोती - स्वामी सुबोधानंदजी (प्रमुख आचार्य, सांदीपनी हिमालय) के तुलसी रामायण पर किए गए ज्ञान यज्ञाें का संकलन है |

इन ज्ञानयज्ञाें में मानस के आध्यात्मिक, दार्शनिक, साहित्यिक और सामाजिक पहलुओं पर विशेष विवेचना की गई है |

प्रथम भाग में चार प्रसगों का निरुपण है - भरत चरित्र (अयोद्या काण्ड), श्री राम गीता तथा नवधाभक्ति का उपदेश (अरण्य काण्ड) और सुग्रीव की शरणागति (किष्किंधाकांड)|

द्वितीय भाग में चार प्रसगों का निरूपण है - हनुमान चरित्र (सूंदर काण्ड), विश्वामित्र यज्ञरक्षा (बाल काण्ड), श्री राम वाल्मिकी संवाद (अयोद्या काण्ड), और कागमुशुंडि चरित्र (उत्तर काण्ड)|

तृतीय भाग में पांच प्रसगों का निरूपण है - लक्ष्मण चरित्र, लक्ष्मण गीता (अयोद्या काण्ड), विभीषण गीता (लंका काण्ड), सती पार्वती प्रसंग (बाल काण्ड) और उत्तर काण्ड|

चतृर्थ भाग में प्रभु श्रीराम का सुमधुर लीलामृत है जिसे पाठकों के लिए एक अनूठे रूप में प्रस्तुत किया गया है - बाल राम (बाल काण्ड), युवा राम (अयोद्या काण्ड), वनवासी राम (अरण्य काण्ड), शरणागत वत्सल राम (सूंदर काण्ड), रणवीर  राम (लंका काण्ड), और राजा राम (उत्तर काण्ड)|

User reviews

  0/5