Mann Ka Daivikaran (Shiv-Sankalp Suktam)

SKU: M2015
₹55.0
Publisher: Chinmaya Prakashan
ISBN: 978-81-7597-659-7
Language: Hindi
Author: Swami Tejomayananda
Binding: Paperback
Tags:
  • Bhakti,Love, Hindu Culture,Hinduism

Description of product

प्रत्येक मन अनोखा और विशिष्ट होता है. इसकी योग्यताऍ और क्षमताऍ अनंत और अकल्पनीय होती हैं. परंतु इन शक्तियों का प्रस्फुटित होना इसकी इच्छा अथवा संकल्प पर निर्भर करता है.हम अपने संकल्प के द्वारा एक ओर जहाँ आध्यात्मिकी विकास के शिख़रो को छू सकते हैं, वहीं दूसरी ओर अंधेरी खोइयों में गिर भी सकते है.

शिव संकल्प सूक्तम इसी असाधारण मन की महिमा का गान करता है और यह अपने विचारों को दिव्य बनाने की प्रार्थना है-शिव संकल्पमस्तु।

User reviews

  0/5