Sandeepany Sadhanalaya, Saki Vihar Road, Powai, Mumbai 400072 Mumbai IN
Chinmaya Vani
Sandeepany Sadhanalaya, Saki Vihar Road, Powai, Mumbai Mumbai, IN
+912228034980 https://cdn1.storehippo.com/s/5d76112ff04e0a38c1aea158/ms.settings/5256837ccc4abf1d39000001/webp/5dfcbe7b071dac2b322db8ab-480x480.png" vani@chinmayamission.com
978-81-7597-371-8 5e0f20bce9b7fb197683942d Purushasooktam (हिंदी) https://cdn1.storehippo.com/s/5d76112ff04e0a38c1aea158/ms.products/5e0f20bce9b7fb197683942d/images/5e198c266f8024249b2311dd/5e198c056f8024249b230e02/webp/5e198c056f8024249b230e02.png

पुरुषसूक्तम उस अनन्त सत्य की स्तुति का स्तोत्र है, जो अपने को स्वयं अपनी रचनात्मकता के द्वारा अभिव्यक्त करता है | यह ऋग्वेद के सुप्रसिद्ध स्तोत्रों में से एक है, जिसे व्यापक रूप में से भक्तों के द्वारा गाये जाने का विशेषाधिकार प्राप्त है |

P2005
in stockINR 30
Chinmaya Prakashan
1 1
Purushasooktam (हिंदी)

Purushasooktam (हिंदी)

SKU: P2005
₹30
Publisher: Chinmaya Prakashan
ISBN: 978-81-7597-371-8
Language: Hindi
Author: Swami Chinmayananda
Binding: Paperback
Tags:
  • Spirituality, Spiritual Knowledge, Philosophy, Awakening

Description of product

पुरुषसूक्तम उस अनन्त सत्य की स्तुति का स्तोत्र है, जो अपने को स्वयं अपनी रचनात्मकता के द्वारा अभिव्यक्त करता है | यह ऋग्वेद के सुप्रसिद्ध स्तोत्रों में से एक है, जिसे व्यापक रूप में से भक्तों के द्वारा गाये जाने का विशेषाधिकार प्राप्त है |

User reviews

  0/5