Sandeepany Sadhanalaya, Saki Vihar Road, Powai, Mumbai 400072 Mumbai IN
Chinmaya Vani
Sandeepany Sadhanalaya, Saki Vihar Road, Powai, Mumbai Mumbai, IN
+912228034980 https://cdn1.storehippo.com/s/5d76112ff04e0a38c1aea158/ms.settings/5256837ccc4abf1d39000001/webp/5dfcbe7b071dac2b322db8ab-480x480.png" vani@chinmayamission.com
978-81-7597-555-2 5e0f209cffd0fa08cebc93ab Sadachara (हिंदी) https://cdn1.storehippo.com/s/5d76112ff04e0a38c1aea158/ms.products/5e0f209cffd0fa08cebc93ab/images/5e1c23b62325614648319386/5e1c233c09e1c04647c46f08/webp/5e1c233c09e1c04647c46f08.jpg

प्रस्तुत "सदाचार" ग्रन्थ श्री आदिशंकराचार्यजी की रचना है | इसके ५४ श्लोकों में आचार्यजी ने आत्मज्ञ सत्पुरुष के आचरण का वर्णन किया है | यह ग्रन्थ, मुमुक्ष व् जिज्ञासु साधकों के लिए आचरण के सम्ब्ध में उपयोगी मार्गदर्शन करता है |

ग्रन्थ के प्रारम्भ में इसका प्रयोजन बताते हुए आचार्य कहते हैं-योगिनां ज्ञानसिद्धये" अर्थात यह जिज्ञासुओं द्वारा ज्ञान सिद्धि प्राप्त करने हेतु हैं | ग्रन्थ समापन में फलश्रुति बताते हुए आचार्य कहते है, "संसारसागरात शीघ्रं मुच्यन्ते" अर्थात ग्रन्थ का नित्य अनुसंधान जन्म-मरण रूपी संसार सागर से मुक्त करने वाला है |

 यह प्रसाद रूप ग्रन्थ संस्कृत भाषा में है जिसका स्वामीजी ने बहुत सुन्दर और विस्तृत विवेचन किया है | महाराष्ट्र के महान संत श्री हंसराज महाराज कृत व्याख्या के ओवी पदों का संदर्भ देने से यह विवेचन सारगर्भित और स्पष्ट है | यह ग्रन्थ जिज्ञासुओं को साधना हेतु निर्देशन देने के लिए तथा सिद्ध महात्माओं को आत्म-विचार पूर्वक स्वानन्द में रमे रहने के लिए उपयुक्त है|

S2028
in stock INR 135
Chinmaya Prakashan
1 1

Sadachara (हिंदी)

SKU: S2028
₹135
Publisher: Chinmaya Prakashan
ISBN: 978-81-7597-555-2
Language: Hindi
Author: Swami Purushottamananda
Binding: Paperback
Tags:
  • Self Development, Self Help,Motivation

Description of product

प्रस्तुत "सदाचार" ग्रन्थ श्री आदिशंकराचार्यजी की रचना है | इसके ५४ श्लोकों में आचार्यजी ने आत्मज्ञ सत्पुरुष के आचरण का वर्णन किया है | यह ग्रन्थ, मुमुक्ष व् जिज्ञासु साधकों के लिए आचरण के सम्ब्ध में उपयोगी मार्गदर्शन करता है |

ग्रन्थ के प्रारम्भ में इसका प्रयोजन बताते हुए आचार्य कहते हैं-योगिनां ज्ञानसिद्धये" अर्थात यह जिज्ञासुओं द्वारा ज्ञान सिद्धि प्राप्त करने हेतु हैं | ग्रन्थ समापन में फलश्रुति बताते हुए आचार्य कहते है, "संसारसागरात शीघ्रं मुच्यन्ते" अर्थात ग्रन्थ का नित्य अनुसंधान जन्म-मरण रूपी संसार सागर से मुक्त करने वाला है |

 यह प्रसाद रूप ग्रन्थ संस्कृत भाषा में है जिसका स्वामीजी ने बहुत सुन्दर और विस्तृत विवेचन किया है | महाराष्ट्र के महान संत श्री हंसराज महाराज कृत व्याख्या के ओवी पदों का संदर्भ देने से यह विवेचन सारगर्भित और स्पष्ट है | यह ग्रन्थ जिज्ञासुओं को साधना हेतु निर्देशन देने के लिए तथा सिद्ध महात्माओं को आत्म-विचार पूर्वक स्वानन्द में रमे रहने के लिए उपयुक्त है|

User reviews

  0/5