Shrimad Bhagavad Gita - CHAPTER 16 & 17 (HINDI CHAPTERS)

Shrimad Bhagavad Gita - CHAPTER 16 & 17 (HINDI CHAPTERS)

SKU: G2005
₹35.0
Publisher: Chinmaya Prakashan
ISBN: 978-81-7597-345-9
Language: Hindi
Author: Swami Chinmayananda
Binding: Paperback
Tags:
  • Geeta, Vedanta, Spirituality

Description of product

भगवद गीता के १६वे  अध्याय में भगवान श्रीकृष्ण पवित्र और जो सुधारी न जा सके ऐसी दोनो प्रकार की जीवात्माओं की बात बिना किसी मूल्यांकन के और बिना किसी व्यतिगत हुए करते है. जहाँ हमारा आंतिरिक सौंदर्य दूसरों का मुस्कान में झलकता है वही हमारी घृणा व् क्रोध जैसी कुवृतिंयों को ढक लेती है हमारे विचारो,व्यवहार, तप और दान में प्रतिबिम्बित होती है.

श्री कृष्ण हमारे विकल्प प्रस्तुत करते है. चुनाव् तो हमें ही करना है.

User reviews

  0/5