Sandeepany Sadhanalaya, Saki Vihar Road, Powai, Mumbai 400072 Mumbai IN
Chinmaya Vani
Sandeepany Sadhanalaya, Saki Vihar Road, Powai, Mumbai Mumbai, IN
+912228034980 https://cdn1.storehippo.com/s/5d76112ff04e0a38c1aea158/ms.settings/5256837ccc4abf1d39000001/webp/5dfcbe7b071dac2b322db8ab-480x480.png" vani@chinmayamission.com
616ea2e8950e89194dc8b864 Amritabindu Upanishad (हिंदी) https://cdn1.storehippo.com/s/5d76112ff04e0a38c1aea158/616ea1b5763d8319d231452a/webp/amirit-bindu-hindi.png

उपनिषदों का स्पष्ट उपदेश हैं कि आत्मा और ब्रह्म के एकत्व का साक्षात् अनुभव करना ही जीवन का अंतिम लक्ष्य है और उसी को प्राप्त करने पर विश्राम और संतोष होता है|

अमृतबिन्दु उपनिषद् की भी वही शिक्षा है|

अमृतबिन्दु उपनिषद् में अवच्छेदवाद और प्रतिबिम्बवाद के द्वारा जीव और परमात्मा का संबंध स्पष्ट किया गया है| सम्पूर्ण उपनिषद् में मुख्य रुप से जीवभाव से ऊपर उठकर आत्मभाव में आने की और आत्मा-परमात्मा के एकत्व का ज्ञान प्राप्त करने की विधि बताई गई है|

A2011
in stockINR 90
Chinmaya Prakashan
1 1
Amritabindu Upanishad (हिंदी)

Amritabindu Upanishad (हिंदी)

SKU: A2011
₹90
Publisher: Chinmaya Prakashan
Language: Hindi
Author: Swami Shankarananda
Binding: Paperback

Description of product

उपनिषदों का स्पष्ट उपदेश हैं कि आत्मा और ब्रह्म के एकत्व का साक्षात् अनुभव करना ही जीवन का अंतिम लक्ष्य है और उसी को प्राप्त करने पर विश्राम और संतोष होता है|

अमृतबिन्दु उपनिषद् की भी वही शिक्षा है|

अमृतबिन्दु उपनिषद् में अवच्छेदवाद और प्रतिबिम्बवाद के द्वारा जीव और परमात्मा का संबंध स्पष्ट किया गया है| सम्पूर्ण उपनिषद् में मुख्य रुप से जीवभाव से ऊपर उठकर आत्मभाव में आने की और आत्मा-परमात्मा के एकत्व का ज्ञान प्राप्त करने की विधि बताई गई है|

User reviews

  0/5