Sandeepany Sadhanalaya, Saki Vihar Road, Powai, Mumbai 400072 Mumbai IN
Chinmaya Vani
Sandeepany Sadhanalaya, Saki Vihar Road, Powai, Mumbai Mumbai, IN
+912228034980 https://cdn1.storehippo.com/s/5d76112ff04e0a38c1aea158/ms.settings/5256837ccc4abf1d39000001/webp/5dfcbe7b071dac2b322db8ab-480x480.png" vani@chinmayamission.com
978-81-7597-410-9 5e0f2052985d17192cf468e0 Changdev Pasashthi (हिंदी) https://cdn1.storehippo.com/s/5d76112ff04e0a38c1aea158/ms.products/5e0f2052985d17192cf468e0/images/5e201f3184a1312b3b41e273/5e201f1fce08c92ad7e41e08/webp/5e201f1fce08c92ad7e41e08.png

अद्वैत तत्वज्ञान से सराबोर "चांगदेव पासष्ठि" संत ज्ञानेश्वर और चांगदेव के बीच हुआ पत्र-रूप संवाद है | 

मूल कृति मराठी भाषा में है | पूज्य स्वामी पुरुषोत्तमानन्दजी इस ग्रन्थ का सरस विवेचन मराठी भाषा में तो करते ही रहें हैं, परन्तु हिंदी भाषा जनता-जनार्धन को भी इस ज्ञान का लाभ मिले, इस दृष्टी से उन्होंने हिंदी में यहाँ प्रवचन दिया था | वही प्रस्तुत पुस्तक के स्वरूप में आपके सामने है |

वेदान्त ज्ञान में स्वामीजी की गहरी पैठ है | इसलिए इतने गहन गंभीर विषय को भी इतनी सरल, सहज और सरस अभिव्यक्ति वे दे सके हैं | विश्वास है कि सभी साधक और जिज्ञासु इससे लाभान्वित होंगे और इसका पूरा आनन्द ले पायेंगे |  

C2004
in stock INR 60
Chinmaya Prakashan
1 1

Changdev Pasashthi (हिंदी)

SKU: C2004
₹60
Publisher: Chinmaya Prakashan
ISBN: 978-81-7597-410-9
Language: Hindi
Author: Swami Purushottamananda
Binding: Paperback
Tags:
  • Hindu Culture, Hinduism, Indian Culture, Culture and Tradition

Description of product

अद्वैत तत्वज्ञान से सराबोर "चांगदेव पासष्ठि" संत ज्ञानेश्वर और चांगदेव के बीच हुआ पत्र-रूप संवाद है | 

मूल कृति मराठी भाषा में है | पूज्य स्वामी पुरुषोत्तमानन्दजी इस ग्रन्थ का सरस विवेचन मराठी भाषा में तो करते ही रहें हैं, परन्तु हिंदी भाषा जनता-जनार्धन को भी इस ज्ञान का लाभ मिले, इस दृष्टी से उन्होंने हिंदी में यहाँ प्रवचन दिया था | वही प्रस्तुत पुस्तक के स्वरूप में आपके सामने है |

वेदान्त ज्ञान में स्वामीजी की गहरी पैठ है | इसलिए इतने गहन गंभीर विषय को भी इतनी सरल, सहज और सरस अभिव्यक्ति वे दे सके हैं | विश्वास है कि सभी साधक और जिज्ञासु इससे लाभान्वित होंगे और इसका पूरा आनन्द ले पायेंगे |  

User reviews

  0/5