Sandeepany Sadhanalaya, Saki Vihar Road, Powai, Mumbai 400072 Mumbai IN
Chinmaya Vani
Sandeepany Sadhanalaya, Saki Vihar Road, Powai, Mumbai Mumbai, IN
+912228034980 https://cdn1.storehippo.com/s/5d76112ff04e0a38c1aea158/ms.settings/5256837ccc4abf1d39000001/webp/5dfcbe7b071dac2b322db8ab-480x480.png" vani@chinmayamission.com
978-81-7597-724-2 5e0f20af9fae110881f21f5e Madhurashtakam (हिंदी) https://cdn1.storehippo.com/s/5d76112ff04e0a38c1aea158/ms.products/5e0f20af9fae110881f21f5e/images/5e1c0595c3fa5b1e2b2d0691/5e1c057aec451f1e724d0efe/webp/5e1c057aec451f1e724d0efe.jpg

'मधुराष्टकम' महाप्रभु श्री वल्ल्भाचार्य जी द्वारा रचित अत्यन्त लोकप्रिय एव आनन्द देने वाला स्तोत्र है | इसमें भगवान श्रीकृष्ण का जो प्रेम है,आकर्षण है, माधुर्य है वह हमें अपनी ओर खीचता है | यह अत्यन्त मधुर रचना है |

'मधुराधिपते अखिलं मधुरम' भगवान मधुरता के स्वामी है, इसलिए उनका सब कुछ मधुर है | जगत में जो भी दृश्य, रूप, स्पर्श, रस, गंध, विचार या भावना है और उसमें जो सौन्दर्य है, आकर्षण है, आनन्द है वह सब परमात्मा का है, वस्तु का नहीं |

जब हम भगवान के सुन्दर रूप का, उनका क्रियाओं का, लीलाओ का, प्रेम का चिन्तन करते है तो हमारा हृदय मधुरता से भर जाता है | इसके फलस्वरुप हमारा जीवन भी मधुर, सुखमय और आनन्दमय हो जाता है | 

M2016
in stock INR 180
Chinmaya Prakashan
1 1

Madhurashtakam (हिंदी)

SKU: M2016
₹180
Publisher: Chinmaya Prakashan
ISBN: 978-81-7597-724-2
Language: Hindi
Author: Swami Tejomayananda
Binding: Paperback
Tags:
  • Bhakti,Love, Hindu Culture,Hinduism

Description of product

'मधुराष्टकम' महाप्रभु श्री वल्ल्भाचार्य जी द्वारा रचित अत्यन्त लोकप्रिय एव आनन्द देने वाला स्तोत्र है | इसमें भगवान श्रीकृष्ण का जो प्रेम है,आकर्षण है, माधुर्य है वह हमें अपनी ओर खीचता है | यह अत्यन्त मधुर रचना है |

'मधुराधिपते अखिलं मधुरम' भगवान मधुरता के स्वामी है, इसलिए उनका सब कुछ मधुर है | जगत में जो भी दृश्य, रूप, स्पर्श, रस, गंध, विचार या भावना है और उसमें जो सौन्दर्य है, आकर्षण है, आनन्द है वह सब परमात्मा का है, वस्तु का नहीं |

जब हम भगवान के सुन्दर रूप का, उनका क्रियाओं का, लीलाओ का, प्रेम का चिन्तन करते है तो हमारा हृदय मधुरता से भर जाता है | इसके फलस्वरुप हमारा जीवन भी मधुर, सुखमय और आनन्दमय हो जाता है | 

User reviews

  0/5