Sandeepany Sadhanalaya, Saki Vihar Road, Powai, Mumbai 400072 Mumbai IN
Chinmaya Vani
Sandeepany Sadhanalaya, Saki Vihar Road, Powai, Mumbai Mumbai, IN
+912228034980 https://cdn1.storehippo.com/s/5d76112ff04e0a38c1aea158/ms.settings/5256837ccc4abf1d39000001/webp/5dfcbe7b071dac2b322db8ab-480x480.png" vani@chinmayamission.com
978-81-7597-348-0 5e0f20aeffd0fa08cebc9783 Manasa Bhakti Sutra (हिंदी) https://cdn1.storehippo.com/s/5d76112ff04e0a38c1aea158/ms.products/5e0f20aeffd0fa08cebc9783/images/5e1c0a81f41b607b9f2c2b85/5e1c0a6b8a53247b8c8fca7a/webp/5e1c0a6b8a53247b8c8fca7a.png

प्रेम से संसार गतिशील है |

प्रेम ही वह तत्व है जो हमें जोड़ता है, जीवित रखता है और आनन्दित करता है |

गोस्वामी तुलसीदासजी कृत रामचरितमानस में शुद्ध प्रेम अर्थात भक्ति का हर रूप दॄष्टि गोचर होता है | इस अमर कृति में भक्ति की जैसी प्रस्तुति हुई है, उसे परम पूज्य गुरूजी स्वामी तेजोमयानंदजी ने बड़े ही संवदेनशील व् रचनात्मक दॄष्टि से सत्र बद्ध किया है |

निश्चित रूप से पाठकगण भक्ति के इन सहज और गहरे सूत्रों तथा उनकी सरल व्याख्या को पसन्द करेंगे |

M2010
in stock INR 50
Chinmaya Prakashan
1 1

Manasa Bhakti Sutra (हिंदी)

SKU: M2010
₹50
Publisher: Chinmaya Prakashan
ISBN: 978-81-7597-348-0
Language: Hindi
Author: Swami Tejomayananda
Binding: Paperback
Tags:
  • Bhakti,Love, Hindu Culture,Hinduism

Description of product

प्रेम से संसार गतिशील है |

प्रेम ही वह तत्व है जो हमें जोड़ता है, जीवित रखता है और आनन्दित करता है |

गोस्वामी तुलसीदासजी कृत रामचरितमानस में शुद्ध प्रेम अर्थात भक्ति का हर रूप दॄष्टि गोचर होता है | इस अमर कृति में भक्ति की जैसी प्रस्तुति हुई है, उसे परम पूज्य गुरूजी स्वामी तेजोमयानंदजी ने बड़े ही संवदेनशील व् रचनात्मक दॄष्टि से सत्र बद्ध किया है |

निश्चित रूप से पाठकगण भक्ति के इन सहज और गहरे सूत्रों तथा उनकी सरल व्याख्या को पसन्द करेंगे |

User reviews

  0/5