Sandeepany Sadhanalaya, Saki Vihar Road, Powai, Mumbai 400072 Mumbai IN
Chinmaya Vani
Sandeepany Sadhanalaya, Saki Vihar Road, Powai, Mumbai Mumbai, IN
+912228034980 https://cdn1.storehippo.com/s/5d76112ff04e0a38c1aea158/ms.settings/5256837ccc4abf1d39000001/webp/5dfcbe7b071dac2b322db8ab-480x480.png" vani@chinmayamission.com
978-81-7597-322-0 5e0f2050e9b7fb1976837000 Aparokshanubhuti (हिंदी) https://cdn1.storehippo.com/s/5d76112ff04e0a38c1aea158/ms.products/5e0f2050e9b7fb1976837000/images/5e2eaf6da549b0236d15bdbc/5e2eaf62a549b0236d15bb92/webp/5e2eaf62a549b0236d15bb92.png

आत्मा, परमात्मा या ब्रह्म का साक्षात् अपरोक्ष ज्ञान ही 'अपरोक्षानुभूति' है|

इस ग्रन्थ में इसी अवस्था को प्राप्त करने की विधि और उसमे सतत् स्थिर रहने का विधान बताया गया है|

अपरोक्षानुभूति की अवस्था तक पहुँचने के लिए भागवद्पाद ने इस ग्रन्थ में कुछ बातों पर विशेष बल दिया है| सबसे प्रथम उन्होंने विचार करने की आवश्यकता बताई है और यह भी बताया है कि विचार कैसे किया जाये| यह जगत किस प्रकार उत्पन्न हुआ, इसका करता कौन है तथा इसका उत्पादन कारण क्या है?

अन्त में निधिध्यासन के पन्द्रह अंग इस ग्रन्थ की मुख्य विशेषता है| उनके अंतर्गत यम, नियम, त्याग, मौन, देश, काल, आसन, मूलबन्ध, देहसाम्य, नेत्रों की स्तिथि, प्राणायाम, प्रत्याहार, धारणा, ध्यान और समाधि आते हैं| इनमें से अधिकांश पतंजलि योग के ही अंग है किन्तु शंकराचार्य ने उनकी व्याख्या अपने ढंग से की है| उसमें अद्वैत वेदान्त की दृष्टी स्पष्ट दिखाई देती है|

A2013
in stockINR 100
Chinmaya Prakashan
1 1
Aparokshanubhuti (हिंदी)

Aparokshanubhuti (हिंदी)

SKU: A2013
₹100
Publisher: Chinmaya Prakashan
ISBN: 978-81-7597-322-0
Language: Hindi
Author: Swami Chinmayananda
Binding: Paperback
Tags:
  • Spirituality, Spiritual Knowledge, Philosophy, Awakening

Description of product

आत्मा, परमात्मा या ब्रह्म का साक्षात् अपरोक्ष ज्ञान ही 'अपरोक्षानुभूति' है|

इस ग्रन्थ में इसी अवस्था को प्राप्त करने की विधि और उसमे सतत् स्थिर रहने का विधान बताया गया है|

अपरोक्षानुभूति की अवस्था तक पहुँचने के लिए भागवद्पाद ने इस ग्रन्थ में कुछ बातों पर विशेष बल दिया है| सबसे प्रथम उन्होंने विचार करने की आवश्यकता बताई है और यह भी बताया है कि विचार कैसे किया जाये| यह जगत किस प्रकार उत्पन्न हुआ, इसका करता कौन है तथा इसका उत्पादन कारण क्या है?

अन्त में निधिध्यासन के पन्द्रह अंग इस ग्रन्थ की मुख्य विशेषता है| उनके अंतर्गत यम, नियम, त्याग, मौन, देश, काल, आसन, मूलबन्ध, देहसाम्य, नेत्रों की स्तिथि, प्राणायाम, प्रत्याहार, धारणा, ध्यान और समाधि आते हैं| इनमें से अधिकांश पतंजलि योग के ही अंग है किन्तु शंकराचार्य ने उनकी व्याख्या अपने ढंग से की है| उसमें अद्वैत वेदान्त की दृष्टी स्पष्ट दिखाई देती है|

User reviews

  0/5