Sandeepany Sadhanalaya, Saki Vihar Road, Powai, Mumbai 400072 Mumbai IN
Chinmaya Vani
Sandeepany Sadhanalaya, Saki Vihar Road, Powai, Mumbai Mumbai, IN
+912228034980 //d2pyicwmjx3wii.cloudfront.net/s/5d76112ff04e0a38c1aea158/ms.settings/5256837ccc4abf1d39000001/webp/5dfcbe7b071dac2b322db8ab-480x480.png" [email protected]
638849acea0fc6de22dad2cd PACK48(गीता पढ़ो आगे बढ़ो) //d2pyicwmjx3wii.cloudfront.net/s/5d76112ff04e0a38c1aea158/63884907ea0fc6de22dab7a1/webp/holy-geeta-and-balgeeta-hindi-3-.png

 

श्रीमद् भगवद गीता
श्रीमद्भगवद गीत: काल की धुन पर अनन्त का संगीत - भगवान् श्रीकृष्ण के रूप में हमारे ह्रदय में स्थित दिव्यता एवं हमारे मोहग्रस्त अहंकार के प्रतीक अर्जुन के मध्य एक संवाद - जीवन के लक्ष्य एवं इसे प्राप्त करने के साधन बताने वाली, जीवन जीने की द्विपक्षीय नियमावली | शोक और मोह से ग्रस्त अर्जुन का भीतरी व्यक्तित्व पूर्णरूप से विखण्डित हो चूका था - वह भगवान के आगे समर्पित हो जाता है भगवान कृष्ण उसके अज्ञान को दूर करते हैं और उसके विषाद को नष्ट कर देते हैं |

(The Holy Geeta)

बाल गीता

आज के बालक ही कल के नागरिक हैं| उनके विचारों और भावनाओं को उत्तम प्रकार से ढालने में ही राष्ट्रीय-शिक्षा की सफलता निहित है| जो आदर्श उनके प्रारम्भिक बाल्यकाल में उनके सम्मुख रहेगा, केवल वही उनको भावी जीवन में पग-पग पर प्रोत्साहित करेगा, वही उनको जीवन की विभिन्न समस्याओं का सामना करने और अपने उद्देशयों की ओर दृढ़ता के साथ बढ़ने में साहस देगा|

इस गीता के अध्याय इस ढंग से लिखे गये हैं कि हमारे बालकों के माता-पिता उनको पढ़ और समझकर सरलता से समझा सकें|

PACK48
in stockINR 502
Chinmaya Prakashan
1 1
PACK48(गीता पढ़ो आगे बढ़ो)

PACK48(गीता पढ़ो आगे बढ़ो)

SKU: PACK48
₹502
Publisher: Chinmaya Prakashan
LANGUAGE: Hindi

Description of product

 

श्रीमद् भगवद गीता
श्रीमद्भगवद गीत: काल की धुन पर अनन्त का संगीत - भगवान् श्रीकृष्ण के रूप में हमारे ह्रदय में स्थित दिव्यता एवं हमारे मोहग्रस्त अहंकार के प्रतीक अर्जुन के मध्य एक संवाद - जीवन के लक्ष्य एवं इसे प्राप्त करने के साधन बताने वाली, जीवन जीने की द्विपक्षीय नियमावली | शोक और मोह से ग्रस्त अर्जुन का भीतरी व्यक्तित्व पूर्णरूप से विखण्डित हो चूका था - वह भगवान के आगे समर्पित हो जाता है भगवान कृष्ण उसके अज्ञान को दूर करते हैं और उसके विषाद को नष्ट कर देते हैं |

(The Holy Geeta)

बाल गीता

आज के बालक ही कल के नागरिक हैं| उनके विचारों और भावनाओं को उत्तम प्रकार से ढालने में ही राष्ट्रीय-शिक्षा की सफलता निहित है| जो आदर्श उनके प्रारम्भिक बाल्यकाल में उनके सम्मुख रहेगा, केवल वही उनको भावी जीवन में पग-पग पर प्रोत्साहित करेगा, वही उनको जीवन की विभिन्न समस्याओं का सामना करने और अपने उद्देशयों की ओर दृढ़ता के साथ बढ़ने में साहस देगा|

इस गीता के अध्याय इस ढंग से लिखे गये हैं कि हमारे बालकों के माता-पिता उनको पढ़ और समझकर सरलता से समझा सकें|

User reviews

  0/5